Best Zakhmi Dil Shayari In Hindi | Zakhm Shayari | ज़ख्म शायरी

Best Zakhmi Dil Shayari In Hindi | Zakhm Shayari
Best Zakhmi Dil Shayari In Hindi | Zakhm Shayari

Best Zakhmi Dil Shayari In Hindi | Zakhm Shayari | ज़ख्म शायरी

दर्द भरी शायरी के लिए आज हम Best Zakhmi Dil Shayari हिंदी में लेकर आये हैं। जिस तरह प्यार में दर्द होता है बिल्कुल उसी तरह कुछ ऐसे ज़ख्म भी होते हैं, जो दिखाई नहीं देते पर होते बहुत हैं। ऐसे ज़ख्मी दिल के लिए शायरियां लिख पाना मुश्किल था। लेकिन आज हमारे शायर ने ज़ख्म शायरी हिंदी में लिखने की कोशिश की है। इन शायरियों में प्यार में हुए ज़ख्मों को अच्छे feel के साथ प्रस्तुत किया गया है। उम्मीद है आपको ये Sad Shayari का collection जरूर पसंद आएगा। अगर ये शायरियां आपके दिल को छू जाए और लगे कि वास्तव में दर्द को लिखा है, तो Share जरूर करें। तो चलिए पढ़ते हैं आज की ज़ख्म शायरी।

Zakhmi Dil Shayari In Hindi – तेरी मरहम की ज़रूरत नहीं

ज़ख्म ने ये कहा है ज़ख्म से,
हमे क्या लेना देना है मरहम से,
मोहब्बत ने जन्म दिया है हमको,
तो दफन भी होंगे अपने ही दम से।

zakhm ne ye kaha hai zakhm se,
hame kya lena dena hai marham se,
mohabbat ne janm diya hai hamko,
to dafan bhi honge apne hi dam se.

इश्क किया था सितम तो होना ही था,
दिल इतना बड़ा ज़ख्म तो होना ही था,
खुशियां कुछ ज्यादा ही दी उसको मैंने,
फिर उसके बदले गम तो होना ही था।

ishq kiya tha sitam to hona hi tha,
dil itna bada zakhm to hona hi tha,
khushiyan kuchh jyada hi di usko maine,
phir uske badale gam to hona hi tha.
Best Zakhmi Dil Shayari In Hindi | Zakhm Shayari
Best Zakhmi Dil Shayari In Hindi | Zakhm Shayari

कोई दवा काम न आए ज़ख्म अभी हरे हैं,
बचके कहां जाए कदम कदम पर मरे हैं,
अब कोई जरूरत नहीं हमे तेरी मरहम की,
हमने अपने ज़ख्म आंसुओं से खुद भरे हैं।

koi dava kam na aaye zakhm abhi hare hain,
bachke kahan jaye kadam kadam par mare hain,
ab koi jarurat nahin hame teri marham ki,
hamne apne zakhm aansuon se khud bhare hain.

Attitude Shayari In hindi

Jalan Shayari In Hindi

धीरे धीरे करके उम्र ए तकाज़ा ढल रहा है,
मालूम है तेरे ज़िक्र से मेरा वजूद पल रहा है,
जहाँ जहाँ छुआ तूने ज़ख्म बनके उभरे हैं,
किसने कह दिया तू हमारा गुजरा कल रहा है।

dhire dhire karke umr e takaza dhal raha hai,
malum hai tere zikr se mera vajud pal raha hai,
jahan jahan chhua tune zakhm banke ubhare hain,
kisne kah diya tu hamara gujra kal raha hai.

तेरा दिया ज़ख्म नहीं भरा मैं भी क्रूर बन गया,
देखते देखते ज़ख्म भी अब तो नासूर बन गया,
तेरे ख्यालों से सजाकर रखते थे कभी दिल को,
अब तो तेरा इश्क भी इबादत से फितूर बन गया।

tera diya zakhm nahin bhara main bhi krur ban gaya,
dekhte dekhte zakhm bhi ab to nasur ban gaya,
tere khyalon se sajakar rakhte the kabhi dil ko,
ab to tera ishq bhi ibadat se fitur ban gaya.

क्या ज़ख्म दिया है तुमने मुझे ये हमेशा बना रहे,
मेरा रक्त सदा तेरी यादों के शहर में ही सना रहे,
आशिक नहीं मैं वो जो तेरे ज़ख्मों से डर जाए,
दीवाना तेरा ज़ख्मी होने पर भी तुझपे फना रहे।

kya zakhm diya hai tumne mujhe ye hamesha bana rahe,
mera rakt sada teri yadon ke shahar me hi sana rahe,
aashik nahin main vo jo tere zakhmon se dar jaye,
deewana tera zakhmi hone par bhi tujhpe fana rahe.

– मिस्टर आकाश “दीवाना तेरा”

Zakhm Shayari In Hindi – ज़ख़्मों की सज़ा

अब तेरे ज़ख्मों से ही प्यार कर लिया हमने,
प्यार ही प्यार में इज़हार कर लिया हमने,
तेरी बातों से बड़ा दर्द मिला करता था,
अब तो ज़ख्मों से ही दीदार कर लिया हमने।

ab tere zakhmon se hi pyar kar liya hamne,
pyar hi pyar me izhar kar liya hamne,
teri baton se bada dard mila karta tha,
ab to zakhmon se hi didar kar liya hamne.

ज़ख्म देकर उसने रुलाया है मुझे,
क्या होता है दर्द सिखाया है मुझे,
मैं वफ़ाओं की उम्मीद करती ही रही,
पर बेवफाई से उसने मिलाया है मुझे।

zakhm dekar usne rulaya hai mujhe,
kya hota hai dard sikhaya hai mujhe,
main wafaon ki ummid karti hi rahi,
par bewafayi se usne milaya hai mujhe.

Breakup Shayari In Hindi

Miss U Shayari In Hindi

इश्क इंसान को माना कि मज़ा देता है,
रूह से जिस्म तक अरमान जगा देता है,
जब भी देता है ये बेवफाई का सिला,
तब यही इश्क ज़ख्मों की सज़ा देता है।

ishq insan ko mana ki maza deta hai,
ruh se jism tak arman jaga deta hai,
jab bhi deta hai ye bewafayi ka sila,
tab yahi ishq zakhmon ki saza deta hai.

– गीता राठौर

दूर जाने की बात मत किया करो,
तुम गए तो समझो जान गई,
पीठ भरी पड़ी थी उसके वार से,
ज़ख्म दिखाया तो बुरा मान गई।

dur jane ki bat mat kiya karo,
tum gaye to samjho jan gayi,
pith bhari padi thi uske var se,
zakhm dikhaya to bura man gayi.

कुछ दर्द थोड़े अश्क़ और तन्हाई,
इसके सहारे खुद को सुलाता हूँ मैं,
और भूल ना जाऊं उसकी वफ़ा,
अब ज़ख्मों पे नमक लगाता हूँ मैं।

kuchh dard thode ashq aur tanhayi,
iske sahare khud ko sulata hun main,
aur bhul na jaun uski wafa,
ab zakhmon pe namak lagata hun main.

दिल का दर्द भला किसे दिखा है,
दर्द को पन्नों पे मैंने लिखा है,
अब तो ज़ख्मों के बिना तन्हा हूँ,
इनके सहारे मैंने जीना सीखा है।

dil ka dard bhala kise dikha hai,
dard ko pannon pe maine likha hai,
ab to zakhmon ke bina tanha hun,
inke sahare maine jina sikha hai.

– पृथ्वी सिंह “आई बी”

Jakhm Shayari In Hindi – ज़ख्म दिया है तुमने

देखों अभी भी ये ज़ख्म मेरा कितना गहरा है,
जिसने दिया उसने छुपा रखा अपना चेहरा है,
अब मैं यहाँ उनका नाम लेके भी क्या करूँगा,
उन्होंने तो अपने आने जाने पे लगा रखा पहरा है।

dekhon abhi bhi ye zakhm mera kitna gahara hai,
jisne diya usne chhupa rakha apna chehara hai,
ab main yahan unka nam leke bhi kya karunga,
unhone to apne aane jane pe laga rakha pahara hai.
Zakhm Shayari
Zakhm Shayari

जो चोट लगी थी दिल में वो आज भी मेरे सीने में है,
क्या बताऊँ मनोज कितना दर्द मेरे इस पसीने में है,
ये ग़म ये तन्हाई और ये जालिमों के अत्याचार ही है,
जिन्होंने बताया कि सहो मज़ा इनके साथ जीने में है।

jo chot lagi thi dil me vo aaj bhi mere sine me hai,
kya bataun manoj kitna dard mere is pasine me hai,
ye gam ye tanhayi aur ye jalimon ke atyachar hi hai,
jinhone bataya ki saho maza inke sath jine me hai.

मुझे छुटकारा मिल जाये अब ऐसी फरियाद ना करो,
जो तुमने ज़ख्म दिया है तुमने उसे तुम याद ना करो,
पर जाऊंगा जब भी तुम्हारा हिसाब करके जाऊंगा,
बस तुम खुद से खुद को ही अभी बर्बाद ना करो।

mujhe chhutkara mil jaye ab aisi fariyad na karo,
jo tumne zakhm diya hai tumne use tum yad na karo,
par jaunga jab bhi tumhara hisab karke jaunga,
bas tum khud se khud ko hi abhi barbad na karo.

वो सबके लिए एक क़िताब लेकर बैठा है,
जिसमें वो हम सबका हिसाब लेकर बैठा है,
आई मेरी पारी तो कहा उसने मुझे अरे यार,
तू तो पहले से ज़ख्म बेहिसाब लेकर बैठा है।

vo sabke liye ek kitab lekar baitha hai,
jismen vo ham sabka hisab lekar baitha hai,
aayi meri pari to kaha usne mujhe are yaar,
tu to pahle se zakhm behisab lekar baitha hai.

ज़नाब क्यों लोग हमे ही ऐसा ज़ख्म दे जाते हैं,
दर्द बहुत होता है दिल में जब याद आते हैं,
मैंने भी तो ग़लती कर दी थी उन्हें दिल देके,
मुझे कहाँ पता था कि वो भी आज़माते हैं।

zanab kyon log hame hi aisa zakhm de jate hain,
dard bahut hota hai dil me jab yad aate hain,
maine bhi to galati kar di thi unhen dil deke,
mujhe kahan pata tha ki vo bhi aazmate hain.

– मनोज शर्मा “एम एस”

मतलब की ये महफ़िल सारी,
मेरे ज़ख्म कुरेदे ये दुनियादारी,
किसी और का क्या नाम कहूँ अब,
जब मेरे अपनो ने ही की गद्दारी।

matlab ki ye mahfil sari,
mere zakhm kurede ye duniyadari,
kisi aur ka kya nam kahun ab,
jab mere apno ne hi ki gaddari.

Hindi Shayari Zakhm – छिपाए हुए ज़ख्म

ज़ख्म हरे हैं अभी जरा सा मरहम तो लगा दो,
न दवा बता सको तो नश्तर ही चुभा दो,
हम हर दर्द की चुभन में तेरा ही नाम लेंगे,
अगर ज़ख्म भरने हैं तो चेहरा दिखा दो।

zakhm hare hain abhi jara sa marham to laga do,
na dava bata sako to nashtar hi chubha do,
ham har dard ki chubhan me tera hi nam lenge,
agar zakhm bharne hain to chehara dikha do.

अब मुँह से ही क्या थोड़ा रूह से भी बोलो,
क्यों ज़ख्म छिपाये हुए हो दिल तो खोलो,
अगर दिल में आँसू भर से गए हो,
तो इस कंधे पर सिर रख कर रो लो।

ab munh se hi kya thoda ruh se bhi bolo,
kyon zakhm chhipaye hue ho dil to kholo,
agar dil me aansu bhar se gaye ho,
to is kandhe par sir rakh kar ro lo.

अभी खत्म कहाँ अभी है ये जारी,
और भी आएंगे लेकर इश्क़ की बीमारी,
कोई खुश होगा तो कोई ज़ख्म सहेगा,
ऐसे ही चलती रहेगी ये दुनिया सारी।

abhi khatm kahan abhi hai ye jari,
aur bhi aayenge lekar ishq ki bimari,
koi khush hoga to koi zakhm sahega,
aise hi chalti rahegi ye duniya sari.

– विनय कुमार दिवाकर

ज़माने ने ज़ख्म दिये तूने मरहम लगाया है,
मैं तो बुझ रही थी तुने फिर से जलाया है,
धोखा खाया है प्यार में धोखा तुझे दूंगी नहीं,
साया बनके साथ रहूंगी तूने सीने से लगाया है।

zamane ne zakhm diye tune marham lagaya hai,
main to bujh rahi thi tune phir se jalaya hai,
dhokha khaya hai pyar me dhokha tujhe dungi nahin,
saya banke sath rahungi tune sine se lagaya hai.

मुझे मालूम है किसी के बहकावे में आते हो,
अपने होकर अपनों को ही ज़ख्म दे जाते हो,
जब परिवार है तो खटपट होना है लाज़मी ,
फिर क्यूँ अपनों से ही दूरियां बढ़ाते हो।

mujhe malum hai kisi ke bahkave me aate ho,
apne hokar apnon ko hi zakhm de jate ho,
jab parivar hai to khatpat hona hai lazmi ,
phir kyun apnon se hi duriyan badhate ho.

– कैलाश वशिष्ठ “के सी”

ज़ख्म दिया है जो तुमने मेरे दिल में,
घाव ताज़ा रहे दुआ करूँ महफ़िल में,
इसी बहाने याद आते हो कभी कभी,
दुआ करो खुद ना पड़ जाना मुश्किल में।

zakhm diya hai jo tumne mere dil me,
ghav taza rahe dua karun mahfil me,
isi bahane yad aate ho kabhi kabhi,
dua karo khud na pad jana mushkil me.

Dard Bhari Shayari – ज़ख़्मों का हिसाब

खंजर सा मार दिया है तूने मेरे सीने में,
रखा क्या है अब तुम्हारे बिना जीने में,
दर्द तो होता है इस मासूम दिल को,
डरना क्या है अब इस जहर को पीने में।

khanjar sa mar diya hai tune mere sine me,
rakha kya hai ab tumhare bina jine me,
dard to hota hai is masum dil ko,
darna kya hai ab is zahar ko pine me.
Dard bhari shayari
Dard bhari shayari

नादान है दिल इसे बर्बाद ना करो,
इस ज़ख्म को तुम आबाद ना करो,
मैं सारे दर्द को सह कर जी लूंगा,
मुझे तड़पाने के लिए फरियाद ना करो।

nadan hai dil ise barbad na karo,
is zakhm ko tum aabad na karo,
main sare dard ko sah kar ji lunga,
mujhe tadapane ke liye fariyad na karo.

– शनि सोनकर

खुश रहना आसान है फिर भी आहें भरता हूँ,
जीने की सौ राह पड़ी है तेरे ग़म में मरता हूँ,
इसी बहाने याद तुमको रोज कर लेते हैं,
बैठे बैठे तन्हाई में ज़ख्म कुरेदा करता हूँ।

khush rahana aasan hai phir bhi aahen bharta hun,
jine ki sau rah padi hai tere gam me marta hun,
isi bahane yad tumko roj kar lete hain,
baithe baithe tanhayi me zakhm kureda karta hun.

अपनों के साथ रहके भी हम बेक़रार थे,
इस दिल के साथ साथ थोड़ा सोगवार थे,
इल्ज़ाम दुश्मनों पर लगाते तो कैसे,
उतने ही ज़ख्म सीने पे थे जितने यार थे।

apnon ke sath rahke bhi ham beqarar the,
is dil ke sath sath thoda sogvar the,
ilzam dushmanon par lagate to kaise,
utne hi zakhm sine pe the jitne yaar the.

कुछ खास दोस्तों के तो चेहरे उतर गए,
जब उनको लगी ये खबर के हम संवर गए,
अब याद करने पर ही तुम याद आते हो,
लगता है मेरे सीने के सब ज़ख्म भर गए।

kuchh khaas doston ke to chehare utar gaye,
jab unko lagi ye khabar ke ham sanvar gaye,
ab yad karne par hi tum yad aate ho,
lagta hai mere sine ke sab zakhm bhar gaye.

– राजेश कनोजिया

एक बार दुखाया दिल तो क्या कई बार दुखा है,
ये दिल दौलत के बाजार में कई बार बिका है,
बोली लगा दी किसी ने ऐसी मेरी क्या बताऊं,
टूटा हूँ जब से तब से आज तक ये ना दिखा है।

ek bar dukhaya dil to kya kayi bar dukha hai,
ye dil daulat ke bajar me kayi bar bika hai,
boli laga di kisi ne aisi meri kya bataun,
tuta hun jab se tab se aaj tak ye na dikha hai.

ज़ख्मों के हिसाब अब क्या होंगे,
जो मिले हैं उन्हीं से क्या जुदा होंगे,
एक तलाश ही रहती थी कभी मेरी,
अब तो तन्हा सफर में हम कहाँ होंगे।

zakhmon ke hisab ab kya honge,
jo mile hain unhin se kya juda honge,
ek talash hi rahti thi kabhi meri,
ab to tanha safar me ham kahan honge.

– हिमांशु कुमार सागर

Conclusion :

Sad Shayari की सीरीज में आज Best Zakhmi Dil Shayari हिंदी में पेश की। इन शायरियों में ज़ख्म को इस तरह बयां किया गया कि आपके दिल तक ये feeling जरूर पहुंची होगी। दिल के ज़ख्मों को शब्दों में बयां कर पाना काफी कठिन था। लेकिन पूरे प्रयास से हमने ये ज़ख्म शायरी का collection पूरा किया। उम्मीद है हम किसी हद तक आपके दर्द को भी लिख पाए होंगे, तो आपको ये दर्द भरी शायरी कैसी लगी कमेन्ट में बताना ना भूले। अगर आपकी कोई खास विषय पर शायरी पढ़ने की फरमाइश है, तो कमेंट ज़रूर करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here