Best Women’s Day Quotes In Hindi | Mahila Diwas Poem 2020

Best Women's Day Quotes In Hindi | Mahila Diwas Poem 2020
Best Women's Day Quotes In Hindi | Mahila Diwas Poem 2020

Best Women’s Day Quotes In Hindi | Mahila Diwas Poem 2020

दोस्तों Women’s Day 2020 आने वाला है, जो हर वर्ष 8 मार्च को मनाते हैं। इसके लिए हम Best Women’s Day Quotes हिंदी में लेकर प्रस्तुत हुए हैं। अगर आप महिला दिवस के लिए कविता ढूंढ रहे हैं, तो एक बार इस post को पूरा जरूर पढ़ें। हमारा प्लेटफॉर्म True Feel Hindi पर आपको रोज़ाना Hindi Poetry मिलती है। इसीलिए आप की post बहुत ज्यादा स्पेशल है। हम हर Topic पर लिखते हैं, तो आज Women’s Day Poem लिखी है।

Women’s Day Quotes In Hindi

परिवार में जो रहती तन मन से समर्पित है वो नारी है,
जिनकी हिम्मत सदियों से अपराजित है वो नारी है,
इस सारे जहाँ में भारत वर्ष में नारी का है अलग महत्व,
भारत वर्ष में सबसे ज्यादा जो सम्मानित है वो नारी है।

नारी कितनी दुश्वारियों को सहती है,
कभी वह किसी को कुछ नहीं कहती है,
नारियों का दर्द सामने तो नहीं लेकिन,
अकेले में उनके अश्कों की धारा बहती है।

Best Women's Day Quotes In Hindi | Mahila Diwas Poem 2020
Best Women’s Day Quotes In Hindi | Mahila Diwas Poem 2020

देश की नारियां भी अब कमाल कर रही है,
माउंट ऐवरेस्ट चढ़ने जैसे काम कर रही है,
जो कहते हैं नारियां कुछ नहीं कर सकती,
देखो वो गोल्ड मेडल अपने नाम कर रही है।

– अम्बिका प्रसाद पाण्डेय “अंशु”

तू ही घर मंदिर तू ही दौलत है,
हर इक घर की इज्जत औरत है,
कभी आए दाग तेरे आँचल पर,
तो किस काम की ये शोहरत है।

Maa Poem

Papa Poem

Mata Pita Shayari

तुम्हारे बिन ये जीवन सूना लगता है,
सात फेरों का दामन सूना लगता है,
बनकर रौशनी ऐसे ही जगमगाती रहो,
तुम्हारे बिन घर आंगन सूना लगता है।

Women’s Day Quotes

प्रेम का संकेत तुम मीराबाई की कहानी हो,
शौर्य का प्रतीक तुम झाँसी वाली रानी हो,
प्यासे प्यासे रहते हैं घनश्याम खुद दर्शन के,
साक्षात राधा रुप तुम ब्रज की राजधानी हो।

साँसों की तुम सरगम रेखा नवरसों का गीत हो,
जीवन के हर क्षेत्र में तुम मानवता की जीत हो,
अनादि से अनंत काल तक गाथा दोहराई जाएगी,
त्रिदेव तुम्हारी राय लेते तुम प्रेरणा का प्रतीक हो।

– मिस्टर आकाश “दीवाना तेरा”

हर रिश्ते में बहुत खास होती है,
स्त्रियां प्यार का अहसास होती है,
लाख जिम्मेदारियां हो फिर भी,
औरतें हर घर की आस होती है।

उनके आगे कभी शत्रु एक न चला था,
जिसे देख दुश्मनों में कोहराम मचा था,
अबला कहकर जो उनकी हँसी उड़ाई थी,
उसी लक्ष्मीबाई ने ही इतिहास रचा था।

खुद ग़मों में रहकर सबको प्यार देती है,
औरतें घरवालों को बहुत दुलार देती है,
कोई आँच न आए घरवालों पर कभी,
इसलिए तन मन अपना वार देती है।

– शिवाजी सेन “गोल्ड”

Women’s Day Poem

जीवन की आधारशिला पर,
वो लिखती जीवन इतिहास,
नारी जग का नया दीपक है,
फिर क्यों उड़ाते हो उपहास।

नारी महिमा मंडल करती,
त्याग सबका सब सिखाती है
पूजा करो जगत में नारी की,
नारी तो देवो में पूजी जाती है।

नारी शिक्षा ज्ञान योग्यता आदि का प्रयोग है,
ये परम पिता परमात्मा का एक योग है,
कुल जो चलते हैं नारी के आदर्शों पे यहाँ,
फिर नारी को सताने का ये कैसा रोग है।

– हिमांशु कुमार सागर

कुछ लोग करते ऐसी बातें हैं,
जैसे बना रहे हो नये नाते हैं,
दो दिन ख़ुशी देकर उसको,
जिंदगी भर तड़पाते हैं।

घर में उसी को गाली देकर,
बाहर औरों से वो शर्माते हैं,
खुद की तो हैसियत नहीं कमाने की,
उसकी कमाई पर हक जताते हैं।

Women’s Day Poem In Hindi

फिर लोगों के सामने उसे मुमताज,
और खुद को शाहजहाँ बताते हैं,
अगर खिलाफ हो इनके कोई तो,
वो बीच सड़क पे अक्सर मारे जाते हैं।

Best Women's Day Quotes In Hindi | Mahila Diwas Poem 2020
Best Women’s Day Quotes In Hindi | Mahila Diwas Poem 2020

जो करते ये ग़ुनाह वो ही क्यों ये भूल जाते हैं,
वो मर्द से नहीं एक औरत से ही जन्म पाते हैं।

– मनोज शर्मा

नारी तेरे रूप को, नमन करूं हर बार,
बेटी पत्नी माँ बनी, बांटा हरदम प्यार।

सोइ थी रात ,
घड़ी में अलार्म भर के,
बजते ही अलार्म,
उठना था तड़के,
अलार्म सुनी नहीं,
देखी घड़ी सांस गई फूल,
बच्चों को तैयार कर,
भेजना था स्कूल,

दोड़ भाग कर रही थी,
बस छूट ना जाए डर रही थी,
ऐक रो रहा था जिसे चूप करना था,
टीफिन में अभी खाना भी भरना था,
बस की आवाज करीब आ रही थी,
वो घबराके पसीने में नहा रही थी,
दोड़कर बच्चों को बस में बैठा दिया,
बच्चों से टाटा बाॅय बाॅय किया,

घर में आकर ठंडी साँस ली,
छोड़ी हुई अधूरी चाय को पी,
अब पति की नींद भी खुल गई,
आवाज आई चाय बन गई,
गैस पर रखी है फ्रेश होने जा रही हूँ,
उठो मुँह धो लो अभी ला रही हूँ,
अभी बाकि खुद को नहाना था,
तैयार होकर काम पर जाना था,

पति की तैयारी करके,
उनका सामान मुकाम पर धरके,
जल्दी जल्दी कुछ खा रही थी,
काम पर अब जा रही थी,
शाम को आना है,
सब का खाना बनाना है,
थक के सो जाना है,
कब जगती है कब सोती है,
महिलाओं की जिन्दगी,
आसान नहीं होती है।

– कैलाश वशिष्ठ

Mahila Diwas Poem

औरत ही तो घर का उजाला है,
उससे ही तो चलता ये जगत सारा है,
और तुम उसे देखते हो गंदी निगाहों से,
उससे तो खुदा खुद भी हारा है।

उसी से जरूरतें पूरी होती है जहां की,
उसके बिना तुम्हारी ये हैसियत कहाँ की,
और खुदा को भी जरुरत पड़ती है,
इस जहां में जनम के लिए माँ की।

सहती अत्याचार है,
वो जगत पालनहारी है,
यही दोष है उसका,
की वो एक नारी है।

– पृथ्वी सिहं “आई बी”

तो मेरे प्यारे Hindi Poetry Lovers, आज हमने Women’s Day 2020 के लिए Best Women’s Day Quotes हिंदी में पेश किए हैं। उम्मीद है ये महिला दिवस के लिए बहुत अच्छी कविताएं हैं। नारियों के पूरे सम्मान को ध्यान में रखते हुए हमने आज की post को लिखा। अब आपका फ़र्ज़ है कि आप हमारे रचनाकार की मेहनत को भारत के हर कोने तक share करें। इससे हमारी नारी शक्ति को भी बढ़ावा मिलेगा। अगर ये post पसन्द आई हो, तो आप इसे share करना ना भूलियेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here