Best Majburi Shayari Status In Hindi | Majburi Shayari In Hindi

Majburi Shayari Status
Majburi Shayari Status

Best Majburi Shayari Status In Hindi | Majburi Shayari In Hindi

इश्क में कई मजबूरियां होती है, जिसे बयां नहीं किया जाता। इसीलिए Sad Shayari की कड़ी में आज Best Majburi Shayari Status In Hindi लेकर प्रस्तुत हुए हैं। प्यार में क्या क्या मजबूरियां हो सकती है उन्हें हमारे शायर ने अपने अपने लहज़े से बयां किया है। जब प्यार करने वाले एक दूसरे से दूर होते हैं, तो कई बार उनकी इसमें कोई मजबूरी छिपी होती है। यही अहसास आपको आज की मजबूरी शायरी में पढ़ने को मिलेगा। उम्मीद है आज की ये दर्द भरी शायरियां आपके दर्द को बयां कर देगी। अगर ये आपके दिल को छूने में सफल रहे, तो अपने चाहने वाले तक इन्हें ज़रूर पहुंचा देना।

Majburi Shayari – क्यों मजबूर करते हो

आजकल वो खुद को हमसे दूर कर रहे हैं,
खबर आई है वो खुद पर गुरूर कर रहे हैं,
हमारी वजह से इन दिनों वो सुर्खियों में है,
उन्हें समझाओ क्यों हमें मजबूर कर रहे हैं।

aajkal vo khud ko hamse dur kar rahe hain,
khabar aayi hai vo khud par gurur kar rahe hain,
hamari vajah se in dino vo surkhiyo me hai,
unhe samajhao kyo hame majbur kar rahe hain.

फायदा मत उठाओ किसी की मजबूरी का,
तुम्हे मालूम नहीं अंजाम इश्क ए दस्तूरी का,
इश्क में पहले भी बहुत कीमतें चुकाई है हमने,
तुम एक बार बताओ क्या मोल है इस दूरी का।

fayada mat uthao kisi ki majburi ka,
tumhe malum nahi anjam ishq e dasturi ka,
ishq me pahle bhi bahut kimate chukai hai hamne,
tum ek bar batao kya mol hai is duri ka.
Majburi Shayari Status
Majburi Shayari Status

धरती आकाश के अंतर को जब दूरी कहते हैं,
वास्तव में लोग मेरी मुहब्बत को अधूरी कहते हैं,
मेरा हर आंसू गिरता है उसकी सर ज़मीन पर,
मगर हम इसे शौक से अपनी मजबूरी कहते हैं।

dharati aakash ke antar ko jab duri kahte hain,
vastav me log meri muhbbat ko adhuri kahte hain,
mera har aansu girta hai uski sar zamin par,
magar ham ise shauk se apni majburi kahte hain.

Flirting Shayari In Hindi

2 Line Bewafa Shayari

मेरे मौला मेरे किरदार को कहानी कोई दे जा ना,
मुरझाए से इस उपवन को रवानी कोई दे जा ना,
क्यों मजबूर करते हो यूं इश्क करने वालों को,
उम्र भर जो साथ रहे ऐसी निशानी कोई दे जा ना।

mere maula mere kirdar ko kahani koi de ja na,
murjhae se is upvan ko ravani koi de ja na,
kyo majbur karte ho yu ishq karne valo ko,
umr bhar jo sath rahe aisi nishani koi de ja na.

मजबूरी है अब कौन किससे मिल रहा है,
मेरी सब्र देखो हिमालय सा पिघल रहा है,
बंद क्या कर लिया खुद को कुछ दिन से,
तब से चांद रोज़ मेरी छत से निकल रहा है।

majburi hai ab kaun kisse mil raha hai,
meri sabra dekho himalay sa pighal raha hai,
band kya kar liya khud ko kuchh din se,
tab se chand roz meri chhat se nikal raha hai.

यूं तो वो बहुत मगरूर हैं,
यौवन के नशे में चूर हैं,
मिलना भी चाहते हैं पर,
हालातों से मजबूर हैं।

yu to vo bahut magrur hain,
yauvan ke nashe me chur hain,
milna bhi chahte hain par,
halato se majbur hain.

– मिस्टर आकाश “दीवाना तेरा”

Majburi Shayari In Hindi – आशिक मजबूर होता है

अपनी बेवफ़ाई को मजबूरी का नाम न दे,
मेरी पाक मोहब्बत को कोई इल्जाम न दे,
मौत दे मुझको मैं हँसके सह लूंगा मगर,
जिस्म को रूह से जुदाई का इनाम न दे।

apni bewafai ko majburi ka nam na de,
meri pak mohbbat ko koi iljam na de,
maut de mujhko main hanske sah lunga magar,
jism ko ruh se judai ka inam na de.

फासला जो दरमियाँ था उसे मिटाना जरूरी था,
मेरे और उसके बीच बस हैसियत भर की दूरी थी,
चला मैं परदेश उन खाइयों को मेहनत से भरने,
रचा के शादी लिखता है मेरी भी कुछ मजबूरी थी।

fasala jo daramiyan tha use mitana jaruri tha,
mere aur uske bich bas haisiyat bhar ki duri thi,
chala main pardesh un khaiyo ko mehnat se bharne,
racha ke shadi likhta hai meri bhi kuchh majburi thi.

मिलना और बिछड़ना तो मोहब्बत का दस्तूर होता है,
रूठे महबूब को मनाने पर हर आशिक मजबूर होता है,
वफ़ा की आग में जल कर ही ये दरिया पार होना है,
मोहब्बत में सब कुछ लुटाकर ही कोई मशहूर होता है।

milna aur bichhadna to mohabbat ka dastur hota hai,
ruthe mahbub ko manane par har aashik majbur hota hai,
wafa ki aag me jal kar hi ye dariya par hona hai,
mohbbat me sab kuchh lutakar hi koi mashhur hota hai.

होकर मशहूर मुझसे दूर हुए तो दूर ही उसे रहने दिया,
बेवफ़ा कहना ठीक न लगा उसको मजबूर ही रहने दिया,
उससे जुदा होकर दिल टूटा मेरा किसी शीशे की तरह,
मान आखिरी निशानी दिल को चकनाचूर ही रहने दिया।

hokar mashhur mujhse dur hue to dur hi use rahne diya,
bewafa kahna thik na laga usko majbur hi rahne diya,
usse juda hokar dil tuta mera kisi shishe ki tarah,
man aakhiri nishani dil ko chaknachur hi rahne diya.

मासूमीयत को देख कर तेरी जीने को मजबूर हो जाता हूँ,
ज़माने के गीले शिकवे सुनकर ज़माने से दूर हो जाता हूँ,
मैं देखने में ठीक ठाक और तुम हो जन्नत की कोई परी,
तुम मुझे चाहती हो इस बात से ही मैं मगरूर हो जाता हूँ।

Nafrat Shayari In Hindi

Aansu Shayari In Hindi

masumiyat ko dekh kar teri jine ko majbur ho jata hu,
zamane ke gile shikve sunkar zamane se dur ho jata hu,
main dekhne me thik thak aur tum ho jannat ki koi pari,
tum mujhe chahati ho is bat se hi main magarur ho jata hu.

क़ातिल बेक़सूर निकला मेरा क़सूर वो क्या जाने,
दिल बड़ा मासूम है ज़माने के दस्तूर वो क्या जाने,
सब ने देखा है मुझे क़त्ल होते तेरे दर पर इश्क में,
अवाक है मेरी चुप्पी पर मैं हूँ मजबूर वो क्या जाने।

katil bekasur nikala mera kasur vo kya jane,
dil bada masum hai zamane ke dastur vo kya jane,
sab ne dekha hai mujhe katl hote tere dar par ishq me,
avak hai meri chuppi par main hu majbur vo kya jane.

दूरियां जो दरमियाँ है मुझे उसे मिटाने तो दे,
दिल का तेरी रूह से रिश्ता उसे निभाने तो दे,
बेशक तुझे जो इल्जाम देना है मुझे दे देना,
मगर मुझे पहले मेरी मजबूरियां गिनाने तो दे।

duriya jo darmiyan hai mujhe use mitane to de,
dil ka teri ruh se rishta use nibhane to de,
beshak tujhe jo iljam dena hai mujhe de dena,
magar mujhe pahle meri majburiya ginane to de.

– राम सिंगार “देवदूत”

Majburi Shayari Status – मिलना बिछड़ना तो दस्तूर है

तुझसे ना मिल पाने को मैं मजबूर हूं,
तुझे कैसे बताऊं सनम मैं क्यूं दूर हूं,
सुना है तुम मेरी याद में खोई रहती हो,
पर तेरे झूठे वादों से हुआ मैं चकनाचूर हूं।

tujhse na mil pane ko main majbur hu,
tujhe kaise batau sanam main kyu dur hu,
suna hai tum meri yad me khoi rahti ho,
par tere jhuthe vado se hua main chaknachur hu.

वो बताकर गई अपनी मजबूरी,
मुझसे बनाकर गई अपनी दूरी,
तन्हा वो मुझे कर गई है यहाँ,
शायद कोई आ गया होगा ज़रूरी।

vo batakar gayi apni majburi,
mujhse banakar gayi apni duri,
tanha vo mujhe kar gayi hai yaha,
shayad koi aa gaya hoga zaruri.

कुछ लोग मेरी मज़बूरी पर हँसा करते थे,
और कहते थे ये इश्क़ में फंसा करते थे,
आज वो भी ग़म ए जुदाई से गुज़र रहे हैं,
जो इश्क़ का हमसे ज़्यादा नशा करते थे।

kuchh log meri mazburi par hansa karte the,
aur kahte the ye ishq me fansa karte the,
aaj vo bhi gam e judai se guzar rahe hain,
jo ishq ka hamse zyada nasha karte the.

ये हम दोनों के दरमियां जो फासले हैं,
क्या इनका होना भी ज़रूरी है सनम,
मैं तेरे संग जिंदगी बिताना चाहता था,
पर ये झूठे वादे तेरी मजबूरी है सनम।

ye ham dono ke daramiyan jo fasale hain,
kya inka hona bhi zaruri hai sanam,
main tere sang jindagi bitana chahata tha,
par ye jhuthe vade teri majburi hai sanam.
Majburi Shayari In Hindi
Majburi Shayari In Hindi

हर आशिक़ अपनी मोहब्बत के आगे मजबूर है,
पास सब मौजूद है पर अपनी महबूबा से दूर है,
ये इश्क़ के रास्ते भी जनाब होते इतने कठिन है,
कि ये खुद कहते मिलना बिछड़ना तो दस्तूर है।

har aashiq apni mohbbat ke aage majbur hai,
pas sab maujud hai par apni mahbuba se dur hai,
ye ishq ke raste bhi janab hote itne kathin hai,
ki ye khud kahte milna bichhadna to dastur hai.

मेरे सर जो चढ़ा ये तेरा फ़ितूर है,
मिलना चाहता हूं पर तू तो दूर है,
कोशिश करता हूं दिल को मना लू,
पर ये दिल तुझसे मिलने को मजबूर है।

mere sar jo chadha ye tera fitur hai,
milna chahata hu par tu to dur hai,
koshish karta hu dil ko mana lu,
par ye dil tujhse milne ko majbur hai.

Shayari On Majburi – कुछ दिन की दूरी बना ले

मजबूर है वो किसी और को अपनाने के लिए,
मेरे रिश्ते तोड़के एक नया रिश्ता बनाने के लिए,
लगता है मेरे ही प्यार में कोई कमी हुई होगी,
वरना नहीं अकेला छोड़ती इस ज़माने के लिए।

majbur hai vo kisi aur ko apnane ke liye,
mere rishte todke ek naya rishta banane ke liye,
lagta hai mere hi pyar me koi kami hui hogi,
varna nahi akela chhodti is zamane ke liye.

मेरे और उनके बीच आज कुछ दूरी है,
ना मिल पाने को उनके पास मजबूरी है,
ये कौन जानता है कौन सही है कौन ग़लत,
अब मैं कैसे कहूँ कि वो मेरे लिए ज़रूरी है।

mere aur unke bich aaj kuchh duri hai,
na mil pane ko unke pas majburi hai,
ye kaun janta hai kaun sahi hai kaun galat,
ab main kaise kahu ki vo mere liye zaruri hai.

सनम तू मुझे भी जीने की मजबूरी बना ले,
सबको छोड़ दे सनम मुझे ज़रूरी बना ले,
तू ही क्यूं अकेले सबकी फ़िकर कर रही है,
मेरी ख़ातिर लोगों से कुछ दिन की दूरी बना ले।

sanam tu mujhe bhi jine ki majburi bana le,
sabko chhod de sanam mujhe zaruri bana le,
tu hi kyu akele sabki fikar kar rahi hai,
meri khatir logo se kuchh din ki duri bana le.

– मनोज शर्मा “एम एस”

मोत ठहरजा तुझे भी गुरुर होगा,
आएगा महबूब मेरा कुछ दूर होगा,
देर हो भी जाए तो शक ना करना,
बेवफा वो है नहीं मजबूर होगा।

Sad Shayari Collection

Hindi Shayari Collection

mot thaharja tujhe bhi gurur hoga,
aaega mahbub mera kuchh dur hoga,
der ho bhi jaye to shak na karna,
bewafa vo hai nahi majbur hoga.

क्यूं इतनी कहानियां बनाने लगे,
क्या ख़ता जो दूरियां बनाने लगे,
बुलाता हूं जब भी तुम्हे प्यार से,
हर दफ़ा मजबूरियां गिनाने लगे।

kyu itni kahaniya banane lage,
kya khata jo duriya banane lage,
bulata hu jab bhi tumhe pyar se,
har dafa majburiya ginane lage.

तोड़ा है दिल उसी ने जिस पर गुरूर था,
किस बात का नशा था क्यूं सनम चूर था,
क्यूं बता ना सकी तू अपनी बेवफाई को,
खाई थी कसम प्यार की मैं तो मजबूर था।

toda hai dil usi ne jis par gurur tha,
kis bat ka nasha tha kyu sanam chur tha,
kyu bata na saki tu apni bewafai ko,
khai thi kasam pyar ki main to majbur tha.

Majboori Shayari In Hindi – शायद कुछ मजबूरी होगी

मेरी मजबूरी को बेवफाई मत समझ लेना,
कानो सुनी बात का विश्वास मत कर लेना,
साथ जीने मरने की कसम हमने खाई है,
जल्द मिलने आऊँगा तुम ज़रा सँवर लेना।

meri majburi ko bewafai mat samajh lena,
kano suni bat ka vishvas mat kar lena,
sath jine marne ki kasam hamne khai hai,
jald milne aaunga tum zara sanvar lena.

मीठी हो पर खजूर हो गई हो,
पास हो लेकिन दूर हो गई हो,
इस तपिश में थोड़ी छाँव भी नहीं,
क्यूं इतनी मजबूर हो गई हो।

mithi ho par khajur ho gayi ho,
pas ho lekin dur ho gayi ho,
is tapish me thodi chhanv bhi nahi,
kyu itni majbur ho gayi ho.

तेरे प्यार में मशहूर हो गई,
पत्थर थी कोहिनूर हो गई,
क्या जादू कर दिया है दिल पर,
मैं साथ रहने को मजबूर हो गई।

tere pyar me mashhur ho gayi,
patthar thi kohinur ho gayi,
kya jadu kar diya hai dil par,
main sath rahne ko majbur ho gayi.

– कैलाश वशिष्ठ “के सी”

शहरों ने संभाला किसी को घर ने संभाला,
राहों में गिर रहे थे कि पत्थर ने संभाला,
बेबस हुए थे इस तरह के मर ही जाते हम,
डूबी जो नाव मुझको समंदर ने संभाला।

shaharo ne sambhala kisi ko ghar ne sambhala,
raho me gir rahe the ki patthar ne sambhala,
bebas hue the is tarah ke mar hi jate ham,
dubi jo nav mujhko samandar ne sambhala.

बेबस है इस कदर की परेशान बैठे हैं,
लगता है कि ज़मीं पे आसमान बैठे हैं,
अब तो ख़ताएं खुद भी हमे भूल गई है,
हम अब भी उस ख़ता पे पशेमान बैठे है।

bebas hai is kadar ki pareshan baithe hain,
lagta hai ki zamin pe aasman baithe hain,
ab to khataye khud bhi hame bhul gayi hai,
ham ab bhi us khata pe pasheman baithe hai.

इश्क़ किया तो ये मत सोचो,
हर एक ख्वाहिश पूरी होगी,
वादा उसने तोड़ दिया है,
शायद कुछ मजबूरी होगी।

ishq kiya to ye mat socho,
har ek khwahish puri hogi,
vada usne tod diya hai,
shayad kuchh majburi hogi.

– राजेश कनोजिया

Conclusion : दर्द भरी शायरी के माहौल में आज हमने Best Majburi Shayari Status को प्रस्तुत किया। इन शायरियों में एक मजबूर इंसान की मजबूरी को बखूबी शायरो ने लिखा और इसका अहसास आपको भी हुआ होगा। हमारे शायर की यही खासियत है कि वो हर तक़लीफ़ को अपनी तक़लीफ़ बनाकर पेश कर देते हैं। आशा करते हैं कि ये मजबूरी शायरी आपको किसी इंसान की मजबूरी समझाने में सफल रही होगी। इन शायरियों में हम कितने Success हुए हमें ये Comment box में बताना ना भूलें क्योंकि यही एक शायर का Credit होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here