Best Hindi Poem On Mother | Maa Poem In Hindi | मां पर कविता

Best Hindi Poem On Mother
Best Hindi Poem On Mother

Best Hindi Poem On Mother | Maa Poem In Hindi | मां पर कविता

मां की ममता को शब्दों में बयां कर पाना एक कवि के लिए भी मुश्किल होता है। लेकिन आज Best Hindi Poem On Mother पोस्ट में हमारे कवि अर्जुन कुमार ने मां पर कविताएं लिखी है। जिन्हें हम इस पोस्ट के माध्यम से पेश कर रहे हैं। इन्होंने इन कविताओं में मां के लिए अपने भाव व्यक्त किये हैं। दोस्तों मां पर लिखना बहुत ही कठिन काम होता है, लेकिन अर्जुन नवीन रचनाकार ने जिस तरह अपनी कविताओं को लिखा है काबिल ए तारीफ है। अगर आप भी Maa Poem पढ़ना चाहते हैं, तो इन Poems को ज़रूर पढियेगा। मां पर भाव आज की Hindi Poems में आपको पढ़ने को मिल रहे हैं। उम्मीद है आपको मां कविताओं का ये संग्रह जरूर पसन्द आएगा। अगर आपको ये कविताएं दिल से अच्छी लगे, तो Share जरूर करना। तो चलिए पढ़ते हैं आज की मां पर कविताएं

Hindi Poem On Mother – मां मेरी मां आंखें मेरी भर जाती है

गोद में लेकर तू लोरी सुनाती थी,
रातों में जाके तब नींद आती थी,
गलती को तू माफ़ कर देती थी,
बुलाके पास तू माथा चूम लेती थी।

वो तेरी आदत मां अब याद आती है,
मां मेरी मां, आंखें मेरी भर जाती है,
जब जब इस दिल को याद आती है।

दूरी है ऐसी बिन मां मुझको रहा ना जाए,
रातों में मुझको मां तेरी ही याद आए,
मां तेरी चाहत तो मुझको सताती है,
कितना गम सहता हूं तू सब जानती है,
अब रातो में मुझको तन्हाई रुलाती है।

मां मेरी मां, आंखें....जब जब इस दिल।

Best Hindi Poem On Mother
Best Hindi Poem On Mother
अब दिल माने नहीं तेरे पास आ जाऊंगा,
अपने दिल की खुशी तेरे संग सजाऊंगा,
दिल मेरा मां तेरे पास रहना चाहता है,
तेरेे क़दमों में जिंदगी जीना चाहता है।

⇒ More Maa Poem In HindiMaa Short Poem In Hindi 

कैसे अकेले मां तू मेरे बिन रह पाती है,
मां मेरी मां, आंखें...जब  जब इस दिल।

Poem On Mother – अब मां फिर से मुझको बचपन देखना है

बचपन में मां तेरे आंचल में लिपटा था,
प्यार से मैं तेरे संग बाहों में सिमटा था,
ढेर सारा खिलौने तू लाती थी बाजार से,
खुश करने के लिए चूम लेती थी प्यार से,
खेल कूदकर ख़ुशी में मुझको हँसना है,
अब मां फिर से मुझको बचपन देखना है।

ऐ मेरी मां प्यार तू मुझसे ज्यादा करती है,
हो कोई गर गम छुपाके तू सामने हंसती है,
मां हर तरफ तू है बसी मेरी इन निगाहों में,
मेरा ही दोस्त बनके संग चलती है राहों में,
तेरे हर दु:ख दर्द को मां मुझको झेलना है,
अब मां फिर से मुझको बचपन देखना है।

⇒ Hindi Poem On FatherPapa Short Poem In Hindi

गलत राह छोड़ कर सही राह दिखाती है,
मुझको हर दिन शाम सुबह तू घुमाती है,
तेरे इशारे पे चलूंगा तेरी बातों को मानूंगा मैं,
ऐसा काम करूं दिल से मां ना दुःख दूंगा मैं,
आज फिर तेरी गोद में बैठकर पढ़ना है,
अब मां फिर से मुझको बचपन देखना है।

Poem On Mother In Hindi – इस जहां में मैं मां का भक्त बना हूं

मां के चरणों में हम फूल बरसाएं,
दुनिया में बस मां को ही स्वर्ग बनाए,
करता हूं मां की ही हरदम मैं पूजा,
बसा नहीं है मेरे दिल में कोई दूजा,
मां मेरी जड़ है उस जड़ का तना हूं,
इस जहां में मैं मां का भक्त बना हूं।

मां इतनी भोली है जिंदगी गुजर जाए,
दूसरों के घर काम करके खाना वो लाए,
मुझे भूखा रखती नहीं है वो मेरी मां है ऐसी,
दुनिया के गम सहकर लड़के देती है ख़ुशी,
मां ने दर्द सहा है तब जाकर आगे बढ़ा हूं,
इस जहां में मैं मां का भक्त बना हूं।

हरपल मैं पुकारूंगा मां को अपने दिल में,
मां को ही लिख डाला अपनी ग़ज़ल में,
लेता ही रहूंगा मैं मां का आशीर्वाद सर पर,
मां से बस चलता रहे अपना ख़ुशी से ये घर,
गलत नहीं अच्छाई की सीढ़ी पर अब चढ़ा हूं,
इस जहां में मैं मां का भक्त बना हूं।

Mother Poem In Hindi - आशीर्वाद दे मां घर से चला मैं आज

आशीर्वाद दे मां घर से चला मैं आज,
मां कुछ पाना है समझना मेरे जज़्बात,
तुमसे सीखा है सलीका मैं करूं कुछ बड़ा,
लौट के आऊंगा जब हो जाऊं पैरो पर खड़ा।

निकला मैं राहों से मां मंजिल को पाने,
चला है दिल घर से आज ख्वाब सजाने,
बेरंग है जो कहानी मां उसमें रंगत लाऊं,
फ़ैसला लिया हमने दुनिया को कुछ दिखाऊं,
तेरे आशीर्वाद से मां मुझे ना लगे कुछ बड़ा,
लौट के आऊंगा जब हो जाऊं पैरो पर खड़ा।

"<yoastmark

भीड़ में तेरी दुआ से दिल लग जाएगा मेरी मां,
अनजान ये दिल अब नहीं रह पाएगा मेरी मां,
हो जाऊंगा मैं सफल दिखेगी ख़ुशी हर तरफ,
तब दिखेगी मां हमको जिंदगी हर तरफ,
लिया आशीर्वाद मां का ख़ुशी से जो आगे बढ़ा,
लौट के आऊंगा जब हो जाऊं पैरो पर खड़ा।

Maa Poem – जिंदगी ना जी पाऊंगा मां तेरे बगैर

इक बात कर सकती हो मां संसार की,
ऐसी क्या गलती थी मां मेरे प्यार की,
जिंदगी ना जी पाऊंगा मां तेरे बगैर,
कैसे जिऊँ और कैसे करूँ जिंदगी की सैर।

मैंने कर दी है मां ऐसी क्या खता,
तू ज़रा बता दे मुझको ना है कुछ पता,
मेरा दिल घबरा गया है नाराज़गी से तेरे,
उदासी छा गई चेहरे पे तुझे देख कर मेरे,
आखिर क्यूं है मेरे दिल से इतना मां बैर,
जिंदगी ना जी पाऊंगा मां तेरे बगैर।

चल थोड़ा हँस दे तू अब ना सता मां,
दिल कहता थोड़ा प्यार मुझ पे जता मां,
मुझे जीने के लिए चाहिए मां तेरी दुआ,
बीती हुई बातें है जो मां तू जल्दी भुला,
तेरे बिन ना बन पाऊं जिंदगी का उड़ता तैर,
जिंदगी ना जी पाऊंगा मां तेरे बगैर।

Maa Poem In Hindi – मां मंजिल है तेरे कदमों में

मां तेरी मोहब्बत रखी है दिल के संदुको में छुपाके,
तू मोहब्बत से हमेशा लगाए रखना सीने से लगाके,
जीने से ज्यादा तुझे चाहता हूं मरने का कोई डर नहीं,
जो भी है मेरी ख्वाहिश मंजिल है तेरे कदमों में यहीं।

ना तुझमें मिला है मां कोई ऐसा अहम मुझे,
जो दिखा है वो मां तेरे पास दिखा हुनर मुझे,
तूने ही लड़ने की ताकत दी है मां मेरे रक्त में,
दुश्मनों को झुका दूंगा मां लाके इस वक़्त में,
बेटा अपने मां के लिए करता है जंग सही,
जो भी है मेरी ख्वाहिश मंजिल है तेरे कदमों में यहीं।

सुख और चैन हमको मिला मां सबकुछ तुझसे,
भगवान से पहले मां है दिल कहता है मुझसे,
आंच ना आने दूं मां पर ऐसा जिगर दिल में,
जलाके राख कर दूं जब आये खबर मेरे दिल में,
दहशत ही फैला डालूंगा दुश्मन गर दिखे कहीं,
जो भी है मेरी ख्वाहिश मंजिल है तेरे कदमों में यहीं।

मां तू कहां है मिल जा आके बाहों में

पूरे नहीं कर पाऊंगा मां के बिना अपने,
ना कोई साथी अब दिखाना कोई सपने,
पागल सा बनके फिरता हूं चौराहों पे,
मां तू कहां है मिल जा आके बाहों में।

सूखे पत्ते जैसी हो गई ये मेरी जिंदगी,
किससे करूं मैं हरा करने के लिए बंदगी,
बेचारा मासूम ये दिल मेरा अकेले क्या करे,
खुद की बातें दिल की किसे हम बयां करे,
निकल पड़ा हूं ढूंढने तुझको हर राहों में,
मां तू कहां है मिल जा आके बाहों में।

कदम रुकते नहीं मेरी मां मिलने के लिए,
तपती सड़क पर खड़ा रहा जलने के लिए,
मां तुम कहां हो आ जाओ ना तुम मेरे पास,
दिल की जो लगी है बुझा जाओ मेरी प्यास,
घूम कर थक गया हूं मां तू दिख जा निगाहों में,
मां तू कहां है मिल जा आके बाहों में।

- अर्जुन कुमार, सुल्तानपुर (UP)

Conclusion : तो दोस्तों आज की मां पर कविताएं आपको कैसी लगी। हमने आज Best Hindi Poem On Mother पोस्ट के माध्यम से कविताओं का एक संग्रह प्रस्तुत किया। इन Hindi Poems में मां की ममता को दिल से बयां करने की पूरी कोशिश की। आपको इन कविताओं में मां शख्सियत का महत्व पता चला और साथ ही आपको मां की याद भी दिलाई गई। उम्मीद है आज जो कविताएं मां पर हमने प्रस्तुत की आपके दिल तक दस्तक दे गई होगी। आपको वाकई ये Maa Poem अच्छी लगी हो, तो हमारे रचनाकार के लिए कमेन्ट करके उन्हें प्रोत्साहित जरूर करें। क्योंकि यही एक रचनाकार के लिए इनाम होता है। हम यहां हर तरह की कविताएं पोस्ट करते हैं, इसलिए आप भी किसी विषय पर कविता पढ़ना चाहते हैं, तो कमेन्ट में अपनी फरमाइश जरूर रखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here