30+ Best Bachpan Shayari In Hindi | Childhood Shayari

Best Bachpan Shayari In Hindi
Best Bachpan Shayari In Hindi

30+ Best Bachpan Shayari In Hindi | Childhood Shayari

बचपन भला कौन याद नहीं करता। बचपन की याद ताज़ा करने के लिए आज हम 30+ Best Bachpan Shayari In Hindi लेकर प्रस्तुत हुए हैं। इन Hindi Shayari को पढ़के आपको अपने बचपन की शरारतें याद आ जायेगी। हमने बचपन के हर पहलुओं को शायरियों में लिखने की कोशिश की है। बचपन की मस्ती, मज़ाक और बचपन के दोस्तों की बातों का ज़िक्र भी लिखा है। साथ ही माता पिता की डाट फटकार और बचपन के दौर को आज की बचपन शायरी में समेटने की कोशिश की है। उम्मीद है आज की Childhood Shayari आपको जरूर पसन्द आने वाली है। अगर वास्तव में आपको आपका बचपन याद आ जाये या हमारी कोई भी लाइन आपके दिल को दस्तक दे जाए, तो इस पोस्ट को Share जरूर करना। तो चलिए पढ़ते हैं आज की बचपन शायरी

Bachpan Shayari In Hindi – बचपन के वो बिगड़े हुए यार

हम दोस्त बचपन में बड़ी शरारत करते थे,
कागजों की बनाकर खड़ी इमारत करते थे,
वो बचपन के दिन कितने हसीन थे ना यारों,
जब बेवज़ह एक दूसरे की शिकायत करते थे।

ham dost bachpan me badi shararat karte the,
kagajon ki banakar khadi imarat karte the,
vo bachpan ke din kitne hasin the na yaaro,
jab bevazah ek dusre ki shikayat karte the.

मैं और मेरे बचपन के वो बिगड़े हुए यार,
जो लड़ने झगड़ने को हो जाते थे तैयार,
हम में भी कभी कभी होती थी तक़रार,
आज भले दूर हैं पर बनाए रखें है प्यार।

main aur mere bachpan ke vo bigade hue yaar,
jo ladne jhagadne ko ho jate the taiyar,
ham me bhi kabhi kabhi hoti thi takrar,
aaj bhale dur hain par banaye rakhen hai pyar.
Best Bachpan Shayari In Hindi
Best Bachpan Shayari In Hindi

जब हम छोटे थे तो कितने अच्छे थे,
मगर उस उम्र में हम प्यारे से बच्चे थे,
गलतियां ख़ुद करते और ख़ुद रोते थे,
अक़्ल से जरूर कच्चे थे पर सच्चे थे।

jab ham chhote the to kitne achchhe the,
magar us umr me ham pyare se bachche the,
galtiyan khud karte aur khud rote the,
akl se jarur kachche the par sachche the.

Zakhmi Dil Shayari In Hindi

HeartBroken Shayari In Hindi

पापा की उंगली को पकड़कर,
चलते थे हँसते हुए अकड़कर,
दिनभर उनको परेशान करते,
रात में सोते थे उनसे डर कर।

papa ki ungali ko pakadkar,
chalate the hanste hue akadkar,
din bhar unko pareshan karte,
rat me sote the unse dar kar.

लाडले थे बचपन में हम तो सब के,
कहते थे सब बन्दे हैं हम सब रब के,
फिर क्यों हमें सब डाटकर रुलाते थे,
ग़र रो देते तो हाथ में लेके झुलाते थे।

ladle the bachpan me ham to sab ke,
kahte the sab bande hain ham sab rab ke,
phir kyon hamen sab datkar rulate the,
gar ro dete to hath me leke jhulate the.

पापा भी हमें कांधे पे बिठाकर,
चलते थे हमें हाथों में उठाकर,
हँसाते थे हमें ख़ुद को हँसाकर,
मारते भी थे थोड़ा प्यार जताकर।

papa bhi hamen kandhe pe bithakar,
chalte the hamen hathon me uthakar,
hansate the hamen khud ko hansakar,
marte bhi the thoda pyar jatakar.

Childhood Shayari – जवानी से कितना सुहाना था बचपन

बचपन की वो दुनिया सबसे हसीन थी,
जब पैरों के नीचे होती हमारे ज़मीन थी,
उसी पे रोते सोते और उठते बैठते थे,
सच वो कहानी भी कितनी रंगीन थी।

bachpan ki vo duniya sabse hasin thi,
jab pairon ke niche hoti hamare zamin thi,
usi pe rote sote aur uthte baithte the,
sach vo kahani bhi kitni rangin thi.

– मनोज शर्मा “एम एस”

हँसते हुए गलियार मिलेंगे,
धूल में लिपटे यार मिलेंगे,
खुद से कभी तू बातें करना,
बचपन के इतवार मिलेंगे।

hanste hue galiyar milenge,
dhul me lipate yaar milenge,
khud se kabhi tu baten karna,
bachpan ke itvar milenge.

Emotional Shayari In Hindi

Attitude Shayari In Hindi

बुलंदी की हसरत न सिक्कों की खन खन,
जहाँ की फिकर न थी रिश्तों की उलझन,
सतत भागना तितली पतंगों के पीछे,
जवानी से कितना सुहाना था बचपन।

bulandi ki hasrat na sikkon ki khan khan,
jahan ki fikar na thi rishton ki uljhan,
satat bhagna titli patangon ke pichhe,
jawani se kitna suhana tha bachpan.

रोता देख के माँ रोती थी,
मैं जो हँसता तो माँ हँसती थी,
राजा होना मुश्किल था पर,
माँ मुझको राजा कहती थी।

rota dekh ke maa roti thi,
main jo hansta to maa hansti thi,
raja hona mushkil tha par,
maa mujhko raja kahti thi.

– राजेश कनोजिया

धीरे से बिस्तर पर लाकर कौन हमें सुलाता है,
मां बाबा की लोरी हमको कौन अब सुनाता है,
लाड प्यार और ममता की यादें बहुत दिलाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

dhire se bistar par lakar kaun hamen sulata hai,
maa baba ki lori hamko kaun ab sunata hai,
lad pyar aur mamta ki yaden bahut dilata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

तेज धूप पेड़ों की छाया में खेलने कौन जाता है,
नाजुक शाखाओं पर चढ़कर फल कौन खाता है,
धूल मिट्टी के घरों से अब बचपन कौन सजाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

tej dhup pedon ki chhaya me khelne kaun jata hai,
najuk shakhaon par chadhkar fal kaun khata hai,
dhul mitti ke gharon se ab bachpan kaun sajata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

बारिश के रेलों में अब नहाने कौन जाता है,
बहते पानी में कागज की कश्ती कौन बहाता है,
मूंगफली के खेतों में अब छाता कौन लगाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

barish ke relon me ab nahane kaun jata hai,
bahte pani me kagaj ki kashti kaun bahata hai,
mungfali ke kheton me ab chhata kaun lagata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

Childhood Shayari In Hindi – बचपन हमको अपने पास बुलाता है

बचपन के स्कूल में अब पढ़ने कौन जाता है,
तितली भमरों के संग में अब कौन गुनगुनाता है,
बचपन के स्कूल की घंटी अब कौन बजाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

bachpan ke school me ab padhne kaun jata hai,
titli bhamron ke sang me ab kaun gungunata hai,
bachpan ke school ki ghanti ab kaun bajata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

Breakup Shayari In Hindi

Sad Shayari In Hindi

बरगद पीपल के पत्तों से चकरी कौन बनाता है,
उन सूनी सी गलियों में अब शोर कौन मचाता है,
बूढ़े बुजुर्गों की फटकारें हमें अब कौन लगाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

bargad pipal ke patton se chakri kaun banata hai,
un suni si galiyon me ab shor kaun machata hai,
budhe bujurgon ki fatkaren hamen ab kaun lagata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

चिड़ियों के घोंसले से अब चूजे कौन चुराता है,
मधुमक्खी के छत्ते से अब शहद कौन खाता है,
इमली खजूरों के पेड़ों से फल कौन टपकाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

chidiyon ke ghonsle se ab chuje kaun churata hai,
madhumakkhi ke chhatte se ab shahad kaun khata hai,
imli khajuron ke pedon se fal kaun tapakata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

सावन के झूलों की यादें बचपन बहुत दिलाता है,
बहन भुआओं के संग में अब हमें कौन झुलाता है,
बाबा वाली बैठक में अब किस्से कौन सुनाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

savan ke jhulon ki yaden bachpan bahut dilata hai,
bahan bhuaon ke sang me ab hamen kaun jhulata hai,
baba vali baithak me ab kisse kaun sunata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

कंधों पर बैठाकर हमको अब कौन घुमाता है,
बाल पकड़कर बाबा के ताली कौन बजाता है,
बाजरे के खेतों में अब मढैया कौन बनाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

kandhon par baithakar hamko ab kaun ghumata hai,
bal pakadkar baba ke tali kaun bajata hai,
bajare ke kheton me ab madhaiya kaun banata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

मेलों में बैल गाड़ियों से अब घूमने कौन जाता है,
हाथी घोड़ा खेल खिलौने खरीदकर कौन लाता है,
बचपन की टोलियों में मित्रों में तराने कौन गाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

melon me bail gadiyon se ab ghumne kaun jata hai,
hathi ghoda khel khilaune kharidkar kaun lata hai,
bachpan ki toliyon me mitron me tarane kaun gata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.

Bachpan Par Shayari – खुशियों का अंबार है बचपन

तीज त्योहारों में बचपन के कपड़े कौन लाता है,
पापा के बटुए में से अब पैसे कौन चुराता है,
एक साथ चूल्हे पर बैठकर खाना कौन खाता है,
कभी कभी बचपन हमको अपने पास बुलाता है।

tij tyoharon me bachpan ke kapde kaun lata hai,
papa ke batue me se ab paise kaun churata hai,
ek sath chulhe par baithkar khana kaun khata hai,
kabhi kabhi bachpan hamko apne pas bulata hai.
Childhood Shayari
Childhood Shayari

धीरे धीरे बड़े हुए तो सारी मस्तियां छूट गई,
जवानी के मौसम में बचपन की हस्तियां सब छूट गई,
ऐ खुदा इन सबके बदले लौटा दे मेरे बचपन को,
पैसों की चमक में कागज की कश्तियां सब छूट गई।

dhire dhire bade hue to sari mastiyan chhut gayi,
jawani ke mausam me bachpan ki hastiyan sab chhut gayi,
aye khuda in sabke badle lauta de mere bachpan ko,
paison ki chamak me kagaj ki kashtiyan sab chhut gayi.

– मिस्टर आकाश “दीवाना तेरा”

क्या भूला हूँ मैं क्या मुझे याद है,
कुछ भी तो नहीं बस फरियाद है,
हां याद आया कहां गया बचपन,
जिसमे हमारा मीठा सा स्वाद है।

kya bhula hun main kya mujhe yad hai,
kuchh bhi to nahin bas fariyad hai,
han yad aaya kahan gaya bachpan,
jisme hamara mitha sa svad hai.

बचपन की बातें कोई कहानी सी है,
सुनते हैं किसी से तो जुबानी सी है,
क्या कभी हमने जिया है हसीन पल,
जिसे सुनकर आंखें हमारी पानी सी है।

bachpan ki baten koi kahani si hai,
sunte hain kisi se to jubani si hai,
kya kabhi hamne jiya hai hasin pal,
jise sunkar aankhen hamari pani si hai.

कितनी रियासतों के मालिक हम थे,
सल्तनतें हमारी थी जब बालिक हम थे,
हर दु:ख दर्द गम दूर था हमसे तो कभी,
दोस्तों के गम में खड़े तात्कालिक हम थे।

kitni riyasaton ke malik ham the,
saltnaten hamari thi jab balik ham the,
har dukh dard gam dur tha hamse to kabhi,
doston ke gam me khade tatkalik ham the.

– हिमांशु कुमार सागर

खुशियों का अंबार है बचपन,
बड़ा ही लच्छेदार है बचपन,
बच्चे सब को ही प्यारे लगते,
ईश्वर जैसे साकार है बचपन।

khushiyon ka ambar hai bachpan,
bada hi lachchhedar hai bachpan,
bachche sab ko hi pyare lagte,
ishvar jaise sakar hai bachpan.

Bachpan Status – माँ बाप की डाँट अच्छी थी

शरारत का सुन्दर चलचित्र है बचपन,
मन का भोला बड़ा विचित्र है बचपन,
जहाँ बच्चे हैं घर वो सच कहूँ तो स्वर्ग है,
दादा दादी का परम मित्र है बचपन।

shararat ka sundar chalchitra hai bachpan,
man ka bhola bada vichitra hai bachpan,
jahan bachche hain ghar vo sach kahun to svarg hai,
dada dadi ka param mitra hai bachpan.

बचपन था निराला खेलते थे खेल,
पकड़ते थे कुर्ता बनाते थे रेल,
पकड़ पाटी वो गिल्ली डंडे का खेल,
फेंकते थे गिल्ली हम लेते थे झेल।

bachpan tha nirala khelte the khel,
pakadte the kurta banate the rel,
pakad pati vo gilli dande ka khel,
fenkte the gilli ham lete the jhel.

हैसियत नहीं थी साईकिल लाने की मैं ऐसे खेलता था,
धनवान बच्चे अपनी साईकिल पे बैठ जाते उन्हें धकेलता था,
मालूम हो गया था गरीब है मिल जाए रोटी ये भी नसीब है,
ईश्वर ना दे किसी को ऐसा बचपन जो पीड़ा मैं झेलता था।

haisiyat nahin thi cycle lane ki main aise khelta tha,
dhanvan bachche apni cycle pe baith jate unhen dhakelta tha,
malum ho gaya tha garib hai mil jaye roti ye bhi nasib hai,
ishvar na de kisi ko aisa bachpan jo pida main jhelta tha.

– कैलाश वशिष्ठ “के सी”

Bachpan Status In Hindi

बचपन की वो यादें मैं कैसे भूल जाऊँ,
वो शरारतें वो खुराफातें मैं कैसे भूल जाऊँ,
यारों की चुलबुली मुलाकातें मैं कैसे भूल जाऊँ,
बचपन की बचकानी बातें कैसे भूल जाऊँ।

bachpan ki vo yaden main kaise bhul jaun,
vo shararten vo khurafaten main kaise bhul jaun,
yaaro ki chulbuli mulakaten main kaise bhul jaun,
bachpan ki bachkani baten kaise bhul jaun.

कैसे भूलूँ दोस्तों के साथ खेलने जाना,
अब मुश्किल है वो बचपन का वक़्त पाना,
मुझे फिर मिल जाए वो वक़्त दोबारा,
वो चूल्हे की रोटी और माँ के हाथ का खाना।

kaise bhulun doston ke sath khelne jana,
ab mushkil hai vo bachpan ka vaqt pana,
mujhe phir mil jaye vo vaqt dobara,
vo chulhe ki roti aur maa ke hath ka khana.

बचपन के दोस्त में कोई बच्चा और कोई बच्ची थी,
वो प्यारी थी पिटाई कुटाई भी जो स्कूल में पक्की थी,
मैं बेफिक्र था बस स्कूल से डरता था पर अब लगता है,
ज़िन्दगी के तानो से तो वो माँ बाप की डाँट अच्छी थी।

bachpan ke dost me koi bachcha aur koi bachchi thi,
vo pyari thi pitai kutai bhi jo school me pakki thi,
main befikra tha bas school se darta tha par ab lagta hai,
zindagi ke tano se to vo maa baap ki dant achchhi thi.

– विनय कुमार दिवाकर

Conclusion : बचपन को याद दिलाने और गुज़रे पलों की याद ताज़ा करने के लिए आज हमने 30+ Best Bachpan Shayari हिंदी में पेश की। ये Hindi Shayari ऐसे भावार्थ के साथ बयां की गई कि इनमें बचपन के दौर को एक छोटे रूप में समेटा गया। हालांकि, बचपन को समेट पाना इतना आसान नहीं पर ये हमारी एक छोटी सी कोशिश थी। इनको पढ़के आपको भी अपने बचपन की याद आ गई होगी। आज आपको अपने बचपन की मस्ती और वो बचपन के यार भी याद आये होंगे। हर कोई अपने Childhood को जीना चाहता है। हम उन पलों को तो वापस नहीं ला सकते पर हां, आप इन बचपन शायरी को share करके फिर से बचपन को जी सकते हो। तो कैसी लगी आज की Childhood Shayari हिंदी में, हमें कमेन्ट में ज़रूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here