Top 100+ Aaina Shayari In Hindi | Aaine Par Shayari | आईने पर शायरियां

Aaina Shayari
Aaina Shayari

वेलकम Hindi Shayari की कड़ी में आज हम “Top 100+ Aaina Shayari In Hindi” लेकर प्रस्तुत हुए हैं। दोस्तों अब तक आपने हर विषय पर शायरी पढ़ी है चाहे वो लव शायरी हो या Sad Shayari हो। लेकिन आज हम ऐसे विषय पर शायरियां लेकर आये हैं, जिसका हमारे जीवन में बहुत बड़ा महत्व होता है। जी हां, हम आईने की बात कर रहे हैं। सही और वैसी ही चीज के अक्स को बयां करने वाले आईने पर शायरियां आज हमारे शायर ने लिखी है। उम्मीद है आज आपको ये शायरियां अलग और बेहद अच्छी लगने वाली है। वास्तव में अगर आपको लगे कि ऐसी शायरियां आपने इसी प्लेटफॉर्म पर पढ़ी है, तो एक Share तो बनता है।

आईने ये मैं हूँ – Aaina Shayari

देखते हो तुम क्या रात लेके आईना,
सब देखते अहम से हाथ लेके आईना,
जब सफर में हर जगह मैं साथ हूँ तेरे,
तुम क्या करोगी यार साथ लेके आईना।

जो सही है ना उसे बताता है अलग,
आईने तू पाठ हमें पढ़ाता है अलग,
तू सब सही बताये पर ये एक कमी लगी,
वक़्त हो सही मगर दिखाता है अलग।
Aaina Shayari
Aaina Shayari
मुझमें हुआ है आज एक शोर कोई है,
आईने ये मैं हूँ या किशोर कोई है,
देख अक्स खूब हुए पागल परिंदे भी,
देखके वो सोचते हैं और कोई है।

- योगेन्द्र "यश"

कोई तुझे तन्हाई में रोज पुकारता है,
कभी जीतता है तो कभी हारता है,
मुझसे अच्छा तो तुम्हारा आईना है,
जो तुम्हें जी भरके रोज निहारता है।

समझ नहीं आती वो झूठ सांच की तरह,
उसका यौवन है धधकती आंच की तरह,
लाख कीचड़ उछाले ज़माने वाले मुझे,
मालूम है उसका चरित्र है कांच की तरह।

आईने से संयम का सलीक़ा – Aaina Shayari In Hindi

तुम से इश्क है तभी तो खाना पीना छोड़ देता हूँ,
तुम्हारे नाम को मेरे नाम के साथ में जोड़ देता हूँ,
आईने के सामने भी जाना अब बन्द कर दिया मैंने,
क्योंकि जिसमें तू नहीं मैं वो आईना फोड़ देता हूँ।

संभालकर रखो ढह न जाए जो गुलाब सा हुस्न ओ शबाब है,
आईने के सामने मत जाया करो उसकी नीयत खराब है,
क्या हिसाब लगायेगा महज वो आईना तुम्हारी खूबसूरती का,
जो तुम्हें इस तरह सामने से संवरता देख कर खुद बेहिसाब है।

- मिस्टर आकाश यादव

हमने सीखा है उसके आईने से संयम का सलीक़ा,
क़त्ल नैन से होकर भी उफ़ न करने का तरीका,
डर था कहीं न लग जाये आईने की नजर उसको,
चुपके से लगा आया आईने में उसके काला टीका।

ये माना आईना सा तेरे बेहद करीब है कोई,
देखता है तुझे जी भर कर ऐसा हबीब है कोई,
बंद आँखों से भी जिसे तू हर पल दिखाई दे,
तू ही बता मेरे सिवा ऐसा खुशनसीब है कोई।

आईने से सवाल – Shayari On Aaina

पाकर तेरा दीदार फिर कहाँ रहता गरीब कोई,
तेरे आईने सा दुनिया में कहाँ ख़ुशनसीब कोई,
मिलता है तुझसे मिलने का मौक़ा मुझसे पहले,
ऐसा लगता है जैसे आईना है मेरा रकीब कोई।

- राम सिंगार "देवदूत"

है मेरे यूं तो अपने बेशुमार पर,
वक़्त पर कोई करीब नहीं होते,
ना खरीद सके वो कोई आईना,
कोई इतने भी गरीब नहीं होते।

तालीम हर बेटियों की पूरी नहीं होती,
ब्याही उसे कहकर अधूरी नहीं होती,
छोड़ना पड़े कुछ सपने को आईनो में,
काश कि बाप की मजबूरी नहीं होती।

तू एक खयाल है मुझे अहसास कर ले,
ठुकराए हैं जहां से अपने पास कर ले,
यौवन पर तेरे फिदा है हजार आशिक,
कभी आईने से सवाल ये खास कर ले।

- अनिल बेजुबान शायर

सच को सच कहता – Shayari On Aaina In Hindi

हर एक से तू राज़ दिल के खोलना नहीं,
झूठी तसल्ली पे तू कभी डोलना नहीं,
रखना उसूल तू भी आईने की तरह,
जिसे टूटना पसंद झूठ बोलना नहीं।

इस तरह वो ईमान मेरा तोलता रहा,
मैं उसके हक की बात कहूं बोलता रहा,
शहर ए अमीर ने मुझे हीरे में जड़ दिया,
फिर भी मैं हक़ीक़तों की गाँठ खोलता रहा।

माना दुनिया बस में करोगे,
दौलत का तुम रोब धरोगे,
वो जो सच को सच कहता है,
आईने से कैसे बचोगे।

- राजेश कनोजिया

यूं देखके आईने को शृंगार ना किया करो,
अपनी खूबसूरती पे एतबार ना किया करो,
वो आईना ही है जो पहचानता है हर सच को,
वो जो दिखाए उसका इंतजार ना किया करो।

नाम आईना है – Aayine Par Shayari

मैं वही दिखाता हूं जो मैं देखता हूं,
झूठ कहता नहीं फिर भी सहता हूं,
नाम से बुलाते लोग मुझे आईना है,
मैं तो हर घर के कोने में ही रहता हूं।

मुझमें देख के हर शख़्स संवारता है,
तुम भी मुझे देख के संवर लो,
नाम आईना है रहता सब के घर में हूं,
मिलने का कोई इरादा कर लो।

मैं सच बोलने में वक़्त नहीं लगाता,
और सच बोलके मैं कहीं नहीं जाता,
मिलूंगा मैं तुन्हें हर घर में टंगा हुआ,
आईना हूँ मैं पर नाम बता नहीं पता।

अगर गिरा दोगे तो मैं टूट जाऊंगा,
एक के हजार रूप तुम्हे दिखाऊंगा,
आईना नाम भी तुम्ही लोग रखते हो,
तोड़ोगे तब भी कुछ न कह पाऊंगा।

किसी का सगा नहीं – Aaine Par Shayari

मैं आईना हूं इसलिए चुप चाप हूं,
वरना हर बात का जवाब दे दूँगा,
तुम मुझे हर बात पे कोसा ना करो,
मैं बिना कुछ दिए हिसाब ले लूँगा।

- मनोज शर्मा "एम एस"

मैं आईना हूं किसी का सगा नहीं,
कभी देता किसी को दगा नहीं,
सच्चाई है वही तो दिखलाता हूं,
मुझमें झूठ की कोई जगह नहीं।
Aaina Shayari In Hindi
Aaina Shayari In Hindi
मैं आईना हूं मुझ पर कोइ इल्जाम नहीं,
मन का राजा हूं राजा का गुलाम नहीं,
सच को सच बतलाना मेरी फितरत है,
झूठ को सच बतलाना मेरा काम नहीं।

आईना हूँ मुझे खरिद सकते हो मेरा ईमान नहीं,
तोड़ सकते हो मुझे मिटा सकते मेरी प्राण नहीं,
मेरे टूकड़े करोगे जितने उतने चेहरे दिखाऊंगा,
किसी की सच्चाई छूपाना मेरे बस का काम नहीं।

झूठ बोलना नहीं आता – Aayne Par Shayari

मेरी आंखों को आईना बना ले तू,
देख इनमें खुद को सजा ले तू,
खुली है ये आंखें बस तेरे लिये,
इन आंखों में खुद को बसाले तू।

आईना भी तेरी तारीफ करता होगा,
तुझे देखकर शायद वो सँवरता होगा,
झूठ बोलना उसे नहीं आता फिर भी,
तेरी तारीफ करने से भी डरता होगा।

कुछ लोग कभी अपनी शक्ल आईने में नहीं देखते,
भूल से सामने आ जाए तो उधर नजर भी नहीं फेंकते,
घिरे रहते हैं वो उनका चेहरा बताने वालो से,
देखा नहीं आईना कभी क्योंकि चेहरा एक नहीं अनेक थे।

- कैलाश वशिष्ठ "के सी"

आभूषण पहनके मेरे पास आना,
आईने को देख आपका वो शर्माना,
खुबसूरती को आपके नजर ना लगे,
आपकी खुबसूरती में मुझे खो जाना।

आईने पर शायरी – मुखड़ा सुनहरा दिखता

दर्पण में आपका ही चेहरा दिखता है,
आपकी निगाह का पहरा दिखता है,
आईने में ही खो जाता हूं मैं अक्सर,
जब वो मुखड़ा सुनहरा दिखता है।

दिल के नैनों से मैं आपको देखता हूं,
हर दर्पण में मैं आपको ही ढूंढता हूं,
आखिर कैसे बनाऊ अपना मैं आपको,
आईने के सामने खड़ा होके सोचता हूं।

- अशफाक सैफ़ी

हम बेवफा के लिए क्यों संवर जाते हैं,
आइने में उसके लिए क्यों मुस्कुराते हैं,
ये सब कुछ देखकर ये आइने भी कहते,
लोग अक्सर बेवफा से क्यों दिल लगाते हैं।

मुझे तुम्हारी रूह दिखती थी,
तुम्हारी ये बात सच लगती थी,
आज आईना ने बताया बेवफ़ा,
तुम अक्सर ही झूठ कहती थी।

Must Read ⇓
Jalan Shayari In Hindi
Miss U Shayari
All Type Shayari
Two Line Shayari

मौसम के छ: रंगों की तरह,
सरगम के सात सुरों की तरह,
बदली आईने में उसकी सूरत,
मुझे बना दिया गैरों की तरह।

- अम्बिका प्रसाद पाण्डेय "अंशु"

Conclusion : तो प्यारे दोस्तों आज हमने “Top 100+ Aaina Shayari In Hindi” को पेश किया। इन Hindi Shayari में आईने की विशेषता को शायर ने व्यक्त किया। इन शायरियों में अलग बात ये रही कि इसमें आईना ही खुद अपने बारे में कह रहा हो, इस तरह इन शायरियों को लिखा गया। उम्मीद है आईने पर शायरियां आपके दिल पर छप सी गई होगी। बखूबी हमारे शायर ने इस विषय पर अपनी कलम को चलाते हुए इन्हें लिखा। आशा करते हैं ये आपको जरूर अच्छी और अलग लगी होगी। आपके इन शायरियों से जुड़े क्या विचार हैं, ये हमें कमेन्ट बॉक्स में बताना ना भूले। साथ ही अगर आपके पास भी है कोई टॉपिक या आपके पास भी है कोई अच्छी शायरियां, तो आज ही हमसे संपर्क करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here